प्रार्थना कब पूरी होती हैं ?

 प्रार्थना कब पूरी होती हैं ?


प्रार्थना कब करें की वो जल्दी से पूरी हो जाएँ ?

देखिये ईश्वर से प्रार्थना तो सभी लोग करते हैं।लेकिन सभी की प्रार्थन पूरी नहीं हो पाति हैं।कहते हैं की जो सच्चे मन से पार्थना करतें  हैं उनकी प्रार्थना जरूर पूरी होती है। लेकिन सवाल ये है की सच्चा मन कहाँ से लायें, हमे क्या पता की मन सच्चा है या नहीं हम तो ये सब नहीं जानते हैं। हम तो बस पार्थना करते हैं मन सच्चा है या नहीं हमे इन्ही पता। ये मामला ईस्वर पे छोड़ देना चाहिए। 

प्रार्थना कब पूरी होती हैं ?
 प्रार्थना कब पूरी होती हैं ?

इस लेख मे तो मैं आप को कुछ ऐसे समय बताऊंगा जिस समय  यदि आप प्रार्थना करते हैं तो उनके पूरे होने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है। 

माता पिता का आशीर्वाद लेते समय 

सुबह उठा के सबसे पहले अपने माता पिता के पैर छू कर प्रार्थना करने से वो बहुत जल्दी पूरी होती है। क्यू कि उस प्रार्थना में माता पिता का आशीर्वाद  भी जुड़ जाता है।  

दान करते समय 

 जब भी आप किसी को किसी भी तरह का दान करते हैं ,और वो व्यक्ति उस दान को पाकर  प्रसन्न हो जाता है। तब उस से अपनी प्रार्थना कहें।  इस समय आप दोनो की सकारात्मक ऊर्जा का बल बहुत ज्यादा होता है।                         

बारिश के बंद होने के बाद 

 बारिश रुकने के तुरंत बाद यदि आप  बादलों के बीच से धूप आती देखें तब उस  समय भी आप अपनी प्रार्थना कर सकते हैं। इस समय प्रार्थना पूरी होनी की सम्भवना ज्यादा होती है। 

 अपने  इष्ट  देवता से प्रार्थना

आप  पहले अपने  इष्ट  देवता का पता करें  और फिर उनसे अपनी कामना को पूरा करने की प्रार्थना करें।  इस उपाय से आप की प्रार्थना जल्दी पूरी हो जाती है क्यूकि  आप की ऊर्जा और आप के  इष्ट  देवता  की ऊर्जा  एकदूसरे से जुडी होती है।