मानव मस्तिष्क से जुडी अनोखी जानकारी

मानव मस्तिष्क से जुडी अनोखी जानकारी 



मानव मस्तिष्क मानव शरीर का सबसे जरूरी अंग है। हमारी सभी एक्टिविटी का सीधा संबंध  हमारे मस्तिष्क से होता है। हमारा मस्तिष्क हमें सोचने, तर्क करने,  याद रखने और नई चीजें को सीखने में मदद करता है। यहाँ हम मानव मस्तिष्क से जुडी अनोखी जानकारी आप से साझा कर रहे हैं, जिसे पढ़ कर आप मानव मस्तिष्क से जुडी अद्भुत एवं रोचक बातों को जान पाएंगे।

                                                          
मानव मस्तिष्क से जुडी अनोखी जानकारी
मानव मस्तिष्क से जुडी अनोखी जानकारी 

1- मानव दिमाग दिन की अपेक्षा रात में सोते समय अधिक तेज चलता है।
2- हमारा दिमाग अकेला शरीर में सबसे ज्यादा ऊर्जा खपत करता है।
3- किसी भी वस्तु को हम अपनी आंखों से नहीं बल्कि अपने दिमाग की मदद से देख पाते हैं। आँख सिर्फ इंफॉर्मेशन को लेने का काम करती है और हमारे दिमाग तक पहुंचाती है।
4- छोटे बच्चे ज्यादा सोते हैं क्योंकि उनका दिमाग उनके शरीर द्वारा बनाया गया 50% ग्लूकोस इस्तेमाल करता है।
5- कम नींद लेना हमारे दिमाग पर बुरा प्रभाव डालता है। यह दिमाग की सक्रियता को कम कर देता है।
6- एक अध्ययन से पता चला है कि ज्यादा देर तक मोबाइल फोन देखने से दिमाग में ट्यूमर होने का खतरा बढ़ जाता है।
7- टीवी देखने की अपेक्षा किताबें पढ़ने से दिमाग ज्यादा तेज होता है क्योंकि इसमें दिमाग की कल्पना शक्ति बढ़ जाती है।
8- एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार माना जाता है कि यदि बहुत अधिक समय तक हम भूखे रहते हैं तो हमारा दिमाग खुद को खाना शुरू कर देता है।
9- मानव दिमाग का 6% हिस्सा बसा यानि फैट से बना होता है।
10- मानव दिमाग लगभग 40 वर्ष की आयु तक विकसित होता है।
11- ऑक्सीजन दिमाग के लिए भी बहुत जरुरी है। यदि दिमाग को 10 मिनट ऑक्सीजन न मिले तो वो याद करना बंद कर देता है।
12- एक औसतम व्यक्ति का दिमाग इतनी बिजली पैदा कर सकता है कि इस बिजली को एक बार जलाया जा सके।
13- जिस व्यक्ति में जितनी ज्यादा शारीरिक शक्ति होती है, उसके दिमाग में संवेदनशीलता की क्षमता उतनी ही कम होती है।
14- दिमाग कोई भी दर्द महसूस नहीं कर सकता क्योंकि दिमाग में कोई भी दर्द की नस नहीं होती।
15- जब आप किसी आदमी का चेहरा गौर से देखते हैं तो आप अपने दिमाग का दायाँ भाग उपयोग करते हैं।
16- हमारे शरीर के दांय भाग को दिमाग का बायाँ भाग और बांय भाग को दिमाग का दायाँ भाग कन्ट्रोल करता है।
17- लगभग 24 साल की उम्र के बाद दिमाग का विकसित होना कम हो जाता है लेकिन इसके बाद भी वह नई-नई योजनाओं और तकनीकी को हाँसिल कर लेता है। इसके बाद भी किसी भी उम्र में दिमाग नई-नई चीजों को सीखने के लिए तैयार रहता है।
18- दिमाग हमारे शरीर का लगभग 2% है पर यह कुल ऑक्सीजन का 20% खपत करता है और खून भी 20% उपयोग करता है।
19- दिमाग का आकार और वजन का दिमाग की तीव्रता और शक्ति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता।
20- अल्बर्ट आइंस्टीन का दिमाग बहुत तेज था जबकि उनके दिमाग का वजन 1230 ग्राम था जो कि सामान्य मनुष्य के दिमाग की तुलना में 10 % कम था।
21- मानव दिमाग के अंदर 1 सेकंड में 1 लाख रासायनिक प्रतिक्रिया होती है।
22- एक सामान्य मनुष्य के मस्तिष्क का वजन लगभग 3 पाउंड होता है।
23- मनुष्य के मस्तिष्क का 73% हिस्सा पानी से निर्मित होता है।
24- शरीर में 2% भी पानी की कमी निर्जलीकरण (Dehydration) होने पर ध्यान, स्मृति और अन्य संज्ञानात्मक कौशल (cognitive skills) प्रभावित हो जाता है।
25- जीवित व्यक्ति का मस्तिष्क इतना नरम होता है कि इसे चाकू के माध्यम से आसानी से काटा जा सकता है।
26- हमारा अवचेतन मन चेतन मन से 30,000 गुना अधिक शक्तिशाली होता है।
27- हम 90 % निर्णय अपने अवचेतन मन (subconscious mind) द्वारा लेते हैं।
28- हम अपने मस्तिष्क में असीमित चीज़ों को याद रख सकते हैं।
29- एक रिसर्च से पता चला है कि हैबिट्स दिमाग के I Q Power को बढ़ा देता है और आपका दिमाग तेज दौड़ने लगता है।
30- अत्यधिक सोच (Overthinking) को कम करके हम दिमाग को तेज कर सकते हैं।
31- ज्यादा चीनी खाने से दिमाग की क्षमता कम हो जाती है।
32- मस्तिष्क विशेष प्रकार की कोशिकाओं से मिलकर बना है जिन्हें तंत्रिकाकोशिका (Neuron) कहते हैं। इनकी कुल संख्या 1 खरब से भी अधिक होती है।
33- संरचनात्मक दृस्टि से मस्तिष्क तीन भागों में बंटा होता है – 1. अग्रमस्तिष्‍क (Fore brain), मध्यमस्तिष्क (Midbrain) एवं पूर्ववर्तीमस्तिष्क (Hindbrain)
34- मस्तिष्क की सूचना 268 मील प्रति घंटे की रफ्तार से संचार करती है, यह फार्मूला वन रेस कारों की तुलना से भी तेज है जोकि 240 मील प्रति घंटे की रफ्तार से चलती है।
35- शिशुओं के सिर का आकार इसलिए बड़ा होता है क्योंकि उनके मस्तिष्क का आकार तेज़ी से बढ़ता है। 2 वर्ष के बच्चे के मस्तिष्क का आकार एक वयस्क व्यक्ति के मस्तिष्क के आकार का 80% होता है।
36- जब हम हंसते हैं तो उस समय मस्तिष्क के 5 हिस्से एक साथ काम कर रहे होते हैं।
37- एक लेख के अनुसार यदि मानव मस्तिष्क की सभी रक्त वाहिकाओं को सीधा किया जाए तो यह चंद्रमा के आधे रास्ते का सफर तय कर लेगी जो कि लगभग 1,20,000 मील है।
38- हमारी आंखें जिस वस्तु को देखती है उन्हें प्रोसेस करने में मस्तिष्क 13 मिली सेकंड से भी कम समय लेता है। यह समय पलक झपकने वाले समय से भी कम है।
39- हिप्पोकैम्पस मस्तिष्क का वह हिस्सा है जिसे ‘मेमोरी सेंटर’ कहां जाता है।
40- जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, हम नई चीजों को याद करने में असमर्थ होने लगते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि अमेरिका में शोधकर्ताओं के अनुसार मस्तिष्क पुरानी यादों को फ़िल्टर करने और हटाने में असमर्थ है जो कि नए विचारों को अवशोषित करने से रोकते हैं।
41- जन्म लेने के बाद से बचपन में कुछ वर्ष हमें याद नहीं रहते। यह इसलिए होता है क्योंकि उस समय हिप्पोकैंपस ‘मेमोरी सेंटर’ का पूर्ण विकास नहीं हुआ होता। जब हिप्पोकैम्पस पूर्ण विकसित हो जाता है उसके बाद ही यह यादों को स्टोर करने का काम करता है।
42- मानव मस्तिष्क प्रति सेकंड 1.016 डाटा प्रोसेस करने में सक्षम है जो इसे किसी भी मौजूद कंप्यूटर की तुलना में कहीं अधिक शक्तिशाली बनाता है।
43- चॉकलेट खाने से मस्तिष्क रिलैक्स होता है कुछ लोगों को आपने टेंशन में चॉकलेट खाते देखा होगा। दरअसल चॉकलेट की खुशबू मस्तिष्क में ऐसी तरंगें उत्तपन्न करती है जिससे शरीर रिलैक्स महसूस करता है।
44- मस्तिष्क में सबसे ज्यादा प्रभाव माहौल का होता है। जिस घर में लड़ाई झगड़े होते हैं वहां के बच्चों के दिमाग में भी वही असर होता है जैसा युद्ध के समय सैनिकों पर होता है।
45- जो बच्चे टीवी ज्यादा देखते हैं उनके दिमाग का विकास धीमा होता है। टीवी देखने के बजाय कहानियां पढ़ने और सुनने से बच्चों का मस्तिष्क अधिक विकसित होता है।
46- प्राचीन मिश्र में ममी बनाते समय मिश्रवासी नाक के माध्यम से मस्तिष्क को बाहर निकाल देते थे।
47- यदि मस्तिष्क में से प्रमस्तिष्कखंड (Amygdala) नामक हिस्सा निकाल दिया जाए तो मनुष्य का किसी भी चीज से डर हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा।
48- सबसे भार वाला मस्तिष्क रूसी लेखक Ivan Turgenev का था जिसका वजन 2.5 किलो था।
49- किसी के द्वारा ignore  किए जाने पर मस्तिष्क को वैसा ही महसूस होता है जैसा चोट लगने पर महसूस होता है।

Post a Comment

0 Comments