स्टेमिना बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय 



स्टैमिना क्या है?

स्टैमिना का हिंदी में अर्थ होता है आंतरिक बल। साधारण शब्दों में कहा जाये तो स्टैमिना का मतलब होता है  किसी व्यक्ति  के द्वारा किसी भी कार्य को मानसिक या शारीरिक रूप से लंबे समय तक जारी रखने के लिए जिस शक्ति का हम उपयोग करते है वह ही स्टैमिना है। स्टैमिना को हम बहुत चीजो से जोड़ सकते है। जैसे खेल, व्यायाम, पैदल चलना, दैनिक दिनचर्या में मेहनत वाले कामों या सेक्स इत्यादि, इन सभी कार्यों को करने के लिए आपको  स्टैमिना की जरूरत होती है , जितना अधिक आपमें स्टैमिना होगा आप उतनी ज्यादा देर तक और उतना अच्छा वो काम कर पाएंगे जो आप कर रहे हैं।  


स्टैमिना कैसे बढ़ाएं 

स्टैमिना बढ़ाने का मतलब है शरीर में कमजोरी दूर करना, शारीरिक और मानसिक दोनों ही रूप से खुद को स्ट्रॉन्ग करना ताकि आप जो भी काम करें, बिना रुके और बिना थकावट के पूरा कर सकें। वैसे आप बाजार में उपलब्ध विटामिन्स और सप्लीमेंट्स की मदद से आसानी से शरीर के स्टैमिना या एनर्जी को बढ़ा सकते हैं। लेकिन अगर आप नैचुरल तरीके से अपना स्टैमिना बढ़ाना चाहते हैं तो कई सरल तरीकों और घरेलू उपायों को भी आजमा सकते हैं। तो हम इस लेख में वैसे ही कुछ तरीके बता रहे हा जिनहे आपना कर आप अपना स्टैमिना बढ़ा सकते है। 

 स्टेमिना बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय 


छुहारा

प्रतिदिन सुबह 4-5 छुहारा, 2-3 काजू और दो बादाम को 300 ग्राम दूध में अच्छी तरह से उबालकर मिश्री मिलाकर पीने से स्टैमिना बरकरार रहता है. यदि इसे रात को सोने से पहले पीते हैं तो काम करने की शक्ति में बढ़ोतरी होती है। 

शिलाजीत 

प्राचीन भारत से ही डॉक्टर इस औषधि का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। शिलाजीत आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करती है।

अश्वगंधा

अश्वगंधा को प्राचीन काल से इस्तेमाल किआ जा रहा है .यह वो प्राचीन जड़ी बूटी है जो मन और शरीर के बेहतरीन प्रदर्शन को दर्शाती है। अश्वगंधा की जड़ों को त्वचा सबंधी बीमारियों के निदान हेतु भी प्रयोग में लाया जाता है। यह यौन शक्ति बढ़ाकर प्रजनन क्रिया को ठीक रखती है।

किशमिश

किशमिश में बहुत अधिक औषधीय गुण पाए जाते है।स्टेमिना बढ़ाने के लिए शहद और किशमिश का मेल एक रामबाण इलाज़ के रूप में बताया गया हैं। एक कांच के बर्तन में 300 ग्राम किशमिश और शहर डालकर 48 घंटे तक रखें। इसके बाद रोजाना सुबह खाली पेट 4 -5 किशमिश शहद में डूबी हुई खाएं, कुछ ही दिनों में आपका स्टेमिना बढ़ जायेगा।


कमजोरी दूर करने का उपाय 


केले खाऐं 

केला में कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, पोटेशियम और फ्रुक्‍टोज आदि की अच्‍छी मात्रा होती है। अगर स्टैमिना और एनरजी बढ़ाना चाहते है तो आप केले का रोजाना सेवन कर सकते हैं। नियमित रूप से केला खाने से  में भी वृद्धि होती है। यदि आप अपने दौड़ने की क्षमता बढ़ाना चाहते हैं तो केला को अपने दैनिक आहार में शामिल करें।


शकरकंदी 

शकरकंदी को एनर्जी का पिटारा कहा जाता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व हेल्थ के लिहाज से काफी फायदेमंद होते हैं। आयरन की कमी से हमारे शरीर में एनर्जी नहीं रहती, रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है और ब्लड सेल्स का निर्माण भी ठीक से नहीं होता है लेकिन शकरकंद आयरन की कमी को दूर करने में काफी मददगार है।


ओट्स ( Oats)

आज कल ओट्सबहुत फेमस हो गए है .अगर आप नाश्ते में ओट्स का सेवन करते हैं तो सुस्ती और थकान आप से कोसों दूर रहेंगी।इसमें फाइबर और कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जोकि आपके शरीर के स्टैमिना को सही रखता है। ओट्स धीरे- धीरे पचते हैं, जिससे कि काफी लंबे समय तक शरीर को एनर्जी मिलती रहती है।


चुकंदर का जूस ( Beet Juice)

नियमित रूप से चुकंदर जूस का सेवन कर आप थकान आदि से भी छुटकारा पा सकते हैं।चुकंदर में पोटेशियम, फाइबर, विटामिन सी और विटामिन ए की उच्‍च मात्रा होती है। ये सभी पोषक तत्‍व सहन‍शक्ति को बढ़ाने में सहायक होते हैं। जो लोग दौड़ने का अभ्‍यास करते हैं उनके लिए चुंकदर का जूस बहुत ही फायदेमंद होता है।


ड्राई फ्रूट्स ( Dry Fruits)

ड्राई फ्रूट्स आपको ऊर्जा दिलाने के साथ ही शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने में सहायक होते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि ड्राई फ्रूट्स में बहुत से पोषक तत्‍व और खनिज पदार्थ अच्‍छी मात्रा में होते हैं जो आपकी एनर्जी और स्टैमिना को बढ़ाने में सहायक होते हैं। सूखे फलों में विटामिन के अलावा ओमेगा-3 फैटी एसिड की अच्‍छी मात्रा होती है जो आपके शरीर को उचित ऊर्जा दिलाने में सहायक होती है।


कॉफी ( Coffee)

आप तनाव से राहत पाने और त्‍वरित ऊर्जा प्राप्‍त करने के लिए कॉफी का सेवन कर सकते हैं। यह आपके मस्तिष्‍क को उत्‍तेजित और सक्रिय करता है जिससे आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य में वृद्धि होती है। जिससे स्‍पष्‍ट होता है कि कॉफी का सेवन आपकी सहनशक्ति को बढ़ाने में सहायक होता है। हालांकि अधिक मात्रा में कॉफी का सेवन हानिकारक हो सकता है क्‍योंकि इसमें कैफीन की मात्रा उच्‍च होती है। इसलिए अपनी रनिंग स्‍टैमिना बढ़ाने के उपाय में आप कॉफी की नियंत्रित मात्रा का सेवन कर सकते हैं।


सफेद मुसली का सेवन 

स्टेमिना बढ़ाने के लिए सफेद मुसली विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों जैसे, आयुर्वेद, यूनानी, प्राकृतिक चिकित्सा आदि में सफेद मुसली का उपयोग होता आ रहा है। ये एक जड़ी-बूटी है, जो शारीरिक क्षमता बढ़ाने के लिये काफी मशहूर है। इसका उपयोग इन्फर्टिलिटी और स्पर्म की कमी को दूर करने के लिए और यौन शक्ति बढ़ाने के लिए किया जाता था।


  यह भी पढ़ें :-    फिट रहने के उपाय 

                         हमेशा सवस्थ रहने के लिए अपनाएँ यह तरिके 


इन सब के आलावा और क्या स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं 


स्टैमिना बढ़ाने के लिए शरीर को पर्याप्त पोषण के रूप में प्रोटीन, आयरन और कैल्शियम भी जरूरी है। शरीर में पोषण के लिए पौष्टिक खाद्य पदार्थ जरूरी हैं, जो शरीर को भरपूर ऊर्जा देने के साथ स्टेमिना बढ़ाने के लिए जरूरी होते हैं । नीचे जानिए स्टैमिन के लिए कौन-कौन से खाद्य पदार्थों का सेवन करें

● प्रोटीन: ब्रोकली, पालक, मशरूम, फूलगोभी, केल, जलकुंभी, मटर, ओट्स, बीन्स, कद्दू के बीज, बादाम, चावल, सूरजमुखी के बीज, वीट ब्रेड, तिल के बीज, मूंगफली व काजू आदि।

● कैल्शियम: दूध, टोफू, तिल के बीज, चिया के बीज, किडनी बींस और बादाम।

● आयरन: पालक, शतावरी, स्विस चार्ड, ब्रोकली, टोफू, दाल, कद्दू के बीज, तिल के बीज और सोयाबीन।

इन सब के अलावा, आप स्टैमिना बढ़ाने के लिए फल-सब्जियां, दलिया, ब्राउन राइस, वसा रहित या कम वसा वाला दूध व पनीर का सेवन भी कर सकते हैं ।


इन तरीकों से भी आप अपना स्टैमिना बढ़ा सकते है 


 स्टेमिना बढ़ाने के लिए करें मेडिटेशन

यदि आप अपने शरीर का स्टेमिना बढ़ाना चाहते है, तथा फिट चुस्त और रोगों से मुक्त रखना चाहते हो तो आपको अपने मन को भी फिट रखना होगा। यदि आप पूरी तरह फिट रहना चाहते है तो आपको बॉडी और माइंड दोने से फिट रहना पड़ेगा। आपके शरीर को फिट रखने के तो बहुत सारे साधन हैं। लेकिन आपके माइंड को फिट रखने का केवल एक साधन है मेडिटेशन। क्यू की बिना फिट माइंड के आप कभी भी फिट नहीं हो सकते हैं। इस लिए आप अपने जीवन में मेडिटेशन को भी सामिल करें और अपने आप को मानसिक और बौद्धिक दोनों तरह से फिट करें 


 स्टेमिना बढ़ाने के लिए करें मॉर्निंग वाक 

मॉर्निंग वाक के फायदे तो सभी को पता है। फिट और स्वस्थ रहने के लिए मॉर्निंग वाक बहुत जरूरी है मॉर्निंग वाक  सभी को अपने फायदा पहुंचती है। मॉर्निंग वॉक करने से हमारे शरीर के सभी अंगों को फायदा फहुचता है। मॉर्निंग वाक को सम्पूर्ण स्वास्थ देने वला कहा जाता है। मॉर्निंग वाक हमारे ह्रदय ,फेफड़े, मांसपेशियों को मजबूत तो करता ही है साथ में तनाव , अनिंद्रा ,मोटापा ,शुगर,हेयर फाल की समस्या और झुर्रियों की समस्या से भी निजाद दिलाने में काफी सहायक होता है। फिट रहने के लिए मॉर्निंग वॉक बहुत जरूरी है। 


पर्याप्त आराम आपके फिटनेस की चाबी है 

स्टेमिना बढ़ाने के लिए ओर फिट रहने के लिए सबसे जरूरी है आप के बॉडी को पर्याप्त आराम देना और इसका सबसे अच्छा साधन है भरपूर नींद। आपने नोटिश किया होगा जब भी आप रात में ठीक से नहीं सो पाते है ,तो दूसरे दिन आप अच्छा महसूस नहीं करते ,आपको ज्यादा थकान और तनाव महसूस होता है। इसका बुरा असर आपके ह्रदय पर भी पड़ता है। पर्याप्त आराम करने से हमारे शरीर को दिन भर के हुए सारे नुक्सान की भरपाई करने का मौका मिलता है। पर्याप्त नींद से हमें  सकारात्मक ऊर्जा  और हमारे मस्तिष्क को आराम देती है। रोज 6 से 7 घण्टे का आराम नींद जरूर लें। पर्याप्त आराम आपके फिटनेस की चाबी है।  



स्टेमिना बढ़ाने के लिए इन चीजों से बचें 


धूम्रपान छोड़ें

धूम्रपान करने से निकोटीन और कार्बन मोनोऑक्साइड शरीर के अंदर जाते हैं। इससे रक्त धमनियां संकीर्ण हो सकती हैं। संकीर्ण धमनियां हृदय, मांसपेशियों और शरीर के अन्य अंगों में रक्त के प्रवाह को कम करती हैं, जिससे एक्सरसाइज करना कठिन हो जाता है।

जब आप धूम्रपान करते हैं, तो आपके शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिल को अतिरिक्त काम करना पड़ता है। इसके अलावा, धूम्रपान आपके फेफड़ों की क्षमता को नुकसान पहुंचाता है। सिगरेट के धुएं में मौजूद टार आपके फेफड़ों को हानि पहुंचा सकता है। धूम्रपान कफ भी पैदा करता है, जो आपके फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है। इन सब कारणों से आपके स्टैमिना पर नकारात्मक असर पड़ता है।  

अल्कोहल

अल्कोहल का सेवन हड्डियों को बुरी तरह प्रभावित करता है। शोध के अनुसार, अल्कोहल का सेवन हड्डियों को कमजोर करता है। हड्डियों की कमजोरी किसी भी प्रकार के व्यायाम में रुकावट डाल सकती है, जिससे स्टैमिना पर बुरा असर पड़ सकता है। इसके अलावा, अल्कोहल की अधिक मात्रा रक्त प्रवाह और प्रोटीन के अवशोषण पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इन कारणों से स्टैमिना कमजोर हो सकता है. 

किताबें जो आपका जीवन बदल दें 

मुझे उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करें ताकि वह भी इस जानकारी का उपयोग कर सकें। आपने हमें अपना कीमती वक्त दिया आपका बहुत धन्येवाद।