नरक निवारण चतुर्दशी | Narak Nivaran Chaturdashi 2021

माघ मास की कृष्ण पक्ष में आने वाली चतुर्दशी को नरक निवारण चतुर्दशी के नाम से जाना जाता है. इस साल यह चतुर्दशी 10 फरवरी 2021 यानी आज मनाई जा रही है. नरक निवारण चतुर्दशी के दिन भगवान शिव की विधि पूर्वक पूजा की जाती है। माना जाता है कि भगवान शिव की उपासना करने वाले भक्तों को सिद्धियों की प्राप्ति होती है और स्वर्ग-नरक के फेर से मु्क्ति मिलती है.शास्त्रों के अनुसार, नरक निवारण चतुर्दशी के दिन ही भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह तय हुआ था। 


नरक निवारण चतुर्दशी कथा

पौराणिक कथाओं के अनुसार, हिमालय ने पुत्री पार्वती के विवाह का प्रस्ताव भगवान शिव को भेजा था. इसके बाद फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी तिथि महाशिवरात्रि के दिन उनका विवाह हुआ था. चतुर्दशी के अवसर पर विभिन्न मंदिरों में जलाभिषेक और पूजा अर्चना कर लोग उपवास रखते हैं. इस दिन लोग गंगा व अन्य पवित्र नदियों में स्नान करते हैं. इस दिन पूरे दिन निराहार रहा जाता है और शाम को व्रत खोला जाता है.


नरक निवारण चतुर्दशी के दिन जितना भगवान शिव की पूजा का महत्व है, उतना ही व्रत नियमों का भी। जानिए आज के दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं-


नरक निवारण चतुर्दशी के दिन क्या करना चाहिए

1. शास्त्रों में नरक निवारण चतुर्दशी तिथि को बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न करना आसान होता है। मान्यता है कि इस दिन शिवलिंग पर बेर जरूर चढ़ाने चाहिए। शाम को व्रत का पारण भी बेर खाकर करना चाहिए। बेर के साथ तिल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. आज के दिन रुद्राभिषेक से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न होते हैं और भक्तों को संकटों से मुक्ति दिलाते हैं। परिवार में सुख-शांति और समृद्धि आती है।

3. ब्रह्यचर्य का पालन करना चाहिए।

4. नरक निवारण चतुर्दशी के दिन ब्राह्मण को शहद और देसी घी का दान करने से रोगों से छुटाकारा मिलता है। 


नरक चतुर्दशी के दिन क्या नहीं करना चाहिए-

1. इस दिन मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

2. घर की महिलाओं का अपमान नहीं करना चाहिए।

3. किसी भी गरीब या जरूरतमंद को घर से खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए।

4. नरक निवारण चतुर्दशी के दिन शंख से भगवान शिव को अभिषेक नहीं करना चाहिए।

5. इस दिन काले वस्त्र धारण नहीं करने चाहिए।

6. भगवान शिव को केतकी के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए।

7. भगवान शिव की पूजा के दौरान तुलसी के पत्तों का प्रयोग नहीं करना चाहिए।